• 15/08/2022 9:01 pm

सोयाबीन का खुला बाजार भाव तथा वायदा बाजार मूल्य अभी न्यूनतम समर्थन मूल्य से ऊंचा चल रहा है
लेकिन प्रोसेसिंग इकाइयों की कमजोर मांग तथा नई फसल के आने की संभावना को देखते हुए आगामी दिनों में इसमें थोड़ी नरमी आ सकती है
लेकिन प्राकृतिक आपदाओं से फसल को हुए नुकसान के कारण सोयाबीन के दाम भारी गिरावट आने की संभावना नहीं है।
बेंचमार्क इंदौर मंडी में सोयाबीन का हाजिर भाव गत सप्ताह के अंत में 3965-3970 रुपए रुपए प्रति क्विंटल चल रहा था।
समीक्षकों का मानना है कि चालू सप्ताह के दौरान इसका दाम घटकर 3920 रुपए प्रति क्विंटल और फिर गिरकर 3900 रुपए प्रति क्विंटल के आसपास आ सकता है
यदि मिलर्स की अच्छी मांग निकली और उत्पादकों एवं स्टाकिस्टों ने बिकवाली का दबाव नहीं
बढ़ाया तो सोयाबीन की कीमतों में ज्यादा नरमी नहीं आएगी
ज्ञात हो कि सोयाबीन का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2019-20 सीजन के 3710 रुपए प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 2020-21 के सीजन हेतु 3880 रुपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। सोयाबीन की अगली नई अगैती फसल की आवक चालू माह के तीसरे सप्ताह से आरंभ होने की उम्मीद है। हालांकि राष्ट्रीय स्तर पर इसका बिजाई क्षेत्र गत वर्ष के 112.70 लाख हेक्टेयर से बढ़कर इस बार 120.55 लाख हेक्टेयर पर पहुंच गया है जो सामान्य औसत क्षेत्रफल 110.35 लाख हेक्टेयर से भी 10.20 लाख हेक्टेयर ज्यादा है। लेकिन मध्य प्रदेश में भारी वर्षा एवं बाढ़ के साथ-साथ कीड़ों-रोगों से भी फसल को भारी नुकसान हुआ है।

 

FOR REGULAR UPDATE FOR EDIBLE OIL /PULSES/COTTON
CALL OR WHATSAPP – 7754821777

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.