• Fri. Jun 25th, 2021

6 फरवरी के शुरुआती कारोबार में भारतीय बाजारों में भारी गिरावट देखने को मिली जिसके चलते निफ्टी 1700 अंक से ज्यादा टूट गया और ये 14800 के नीचे फिसल गया है। इस गिरावट में बैंक और फाइनेंशियल शेयरों की अहम भूमिका रही। Nifty Bank, Private Bank, PSU Bank और Financial Services इंडेक्स में 3 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है।

 

फिलहाल अभी 11.20 बजे के आसपास सेंसेक्स 1395 अंक यानी 2.74 फीसदी टूटकर 49,620 को आसपास दिख रहा है। वहीं, निफ्टी 3834 अंक यानी 2.54 फीसदी की कमजोरी के साथ 14715 के आसपास दिख रहा है।

मिड और स्माल कैप, लार्ज कैप की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करते नजर आ रहे हैं। BSE मिड कैप इंडेक्स 1.07 फीसदी और स्माल कैप इंडेक्स 0.53 फीसदी कमजोर नजर आ रहे हैं। वहीं निफ्टी में 2.54 फीसदी की गिरावट देखने को मिल रही है। जबकि सेंसेक्स करीब 2.75 फीसदी टूट गया है। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के वीके कुमार ने कहा कि इस समय बाजार भारी उतार-चढ़ाव के दौर से गुजर रहा है। इसकी वजह से बीच-बीच में आने वाली अच्छी और बुरी दोनों तरह की खबरें हैं। लेकिन बाजार का लंबी अवधि का नजरिया मजबूत बना हुआ है। निवेशकों को गिरावट पर खरीद की रणनीति कायम रखनी चाहिए। अभी तक हमको इस रणनीति का फायदा मिलता दिख रहा है।

 

इन कारणों से बाजार हुआ धराशाई

 

बढ़ता बॉन्ड यील्ड – बॉन्ड यील्ड में बढ़त ने निवेशकों को जोखिम वाले निवेश विकल्पों जैसे इक्विटी मार्केट से दूर कर दिया है। बॉन्ड मार्केट का असर अक्सर इक्विटी मार्केट पर दिखता है। एक बुल रन के बाद इक्विटी बाजार हाल के दिनों में करेक्ट हुआ है। सेंसेक्स और निफ्टी में दोनों में अपने रिकॉर्ड स्तरों से गिरावट देखने को मिली है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अमेरिका ट्रेजरी यील्ड कोरोना महामारी के विस्फोट के बाद से अपने हाईएस्ट लेवल पर पहुंच गया है। सिर्फ अमेरिका में ही नहीं जापान और भारत में भी बॉन्ड यील्ड में बढ़त देखने को मिली है जिससे इक्विटी मार्केट पर दबाव बना है।

 

कमजोर ग्लोबल सकेंत –  अधिकांश एशियाई बाजारों में आज कमजोरी देखने को मिल रही है। बेंच मार्क US ट्रेजरी यील्ड में भारी बढ़त के साथ वॉल स्ट्रीट का मेन इंडेक्स लड़खड़ा गया है। रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के S&P/ASX 200 में शुरुआती कारोबार में 2 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। इसी तरह जापान के निक्केई और हॉन्गकॉन्ग के Hang Seng में करीब 1.7 फीसदी की गिरवाट देखने को मिल रही है।

 

GDP डेटा आने के पहले बाजार सतर्क – आज शाम तक NSO देश के अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के GDP आंकड़े जारी करेगा। तमाम बाजार जानकारों का अनुमान है कि 2020 की अक्टूबर- दिसंबर तिमाही में देश का GDP ग्रोथ 0 फीसदी से ऊपर रहेगा। जो 2 तिमाहियों के भारी गिवाट के बाद इकोनॉमी में सुधार का संकेत होगा।

 

कोविड-19 की चिंता कायम – उम्मीद थी कि वैक्सीनेशन शुरू होने के साथ ही कोविड के मामलों में कमी आनी शुरू होगी और ऐसा हुआ भी था। लेकिन एकाएक फिर से कोविड मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है जो बाजार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है।

 

जानिए क्या कहते हैं टेक्निकल पैरामीटर – हालांकि निफ्टी के लिए 15,100 का स्तर भारी रजिस्टेंस का काम कर रहा है। लेकिन टेक्निकल इंडीकेटर मिलेजुले संकेत दे रहे हैं। जिसको देखते हुए एनालिस्ट की सलाह है कि अभी स्थितियां और साफ होने का इंतजार करना चाहिए।

 

दीनदयाल इन्वेस्टमेंट के मनीष हाथीरमानी का कहना है कि कल के कारोबार में 15,100 के लेवल में निफ्टी के लिए भारी रजिस्टेंस का काम किया और निफ्टी इसके ऊपर बंद होने में कामयाब नहीं रहा। ट्रेडरों को अभी किसी भी दिशा में कोई भी पोजीशन लेने की हड़बड़ी नहीं करनी चाहिए। हमें सोमवार को बाजार पर नजर रखनी चाहिए। बाजार में भारी उतार-चढ़ाव को देखते हुए इस समय जोखिम काफी बड़ा नजर आ रहा है।

 

ICICI डायरेक्ट का कहना है कि हाल में निफ्टी में दिखे हेल्दी रिट्रैचमेंट की वजह से इसको 14,600 के आसपास हाएरबेस बनाने में सोपर्ट मिला है। यहां से अब निफ्टी ऊपर के लिए तैयार दिख रहा है। ICICI डायरेक्ट का आगे कहना है कि 14,600 के तरफ किसी भी मूव का फायदा उठाना चाहिए और इस गिरावट में हमें शेयरों में खरीद करनी चाहिए।

 

 FOR REGULAR UPDATE VISIT OUR SITE.

                                        CLICK LINK BELOW.

https://newsmarkets24.com

twitter.com/newsmarkets24

https://www.facebook.com/newsmarkets

 

SUBSCRIBE MY YOUTUBE CHANNEL


https://www.youtube.com/NEWSMARKETS24

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *