Friday, July 19, 2024

RBI गवर्नर ने बैंकों से ‘लाभ की बेवजह चाहत’ बंद करने को कहा

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बैंकों से अपील की है कि वे “बेवजह मुनाफे की तलाश” से बचें। उन्होंने कहा कि अधिक लाभ कमाने के चक्कर में कुछ बिजनेस मॉडल में छिपी हुई कमजोरियाँ हो सकती हैं। दास ने ज़ोर देकर कहा कि इन जोखिमों का सही तरीके से प्रबंधन किए बिना मुनाफा कमाना सही नहीं है।

एक कार्यक्रम में बोलते हुए, जो वित्तीय प्रणाली को लचीला और संकट मुक्त रखने पर केंद्रित था, दास ने बताया कि आरबीआई का उद्देश्य संकट को बढ़ने से पहले पहचानना और समय रहते कार्यवाही करना है। उन्होंने कहा, “हम हर बार संकट को पहले से नहीं पहचान सकते, लेकिन हम अपने सर्वोत्तम प्रयासों से इसे करने की कोशिश करते हैं।”

दास ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि कैसे असुरक्षित ऋण और एनबीएफसी को ऋण देने में आरबीआई की सख्ती के कारण इन क्षेत्रों में ऋण देना धीमा हो गया है। उन्होंने बताया कि आरबीआई ने कुछ अपरंपरागत कदम भी उठाए हैं, जैसे कि यदि किसी विनियमित इकाई पर दबाव बढ़ रहा है तो केंद्रीय बैंक के कार्यकारी निदेशक द्वारा उसके बोर्ड को संबोधित करना।

गवर्नर का यह बयान ऐसे समय में आया है जब बैंकों का मुनाफा अब तक के उच्चतम स्तर पर है, और इस क्षेत्र का कुल मुनाफा 4 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। निरंतर मुनाफा बढ़ने की उम्मीदों ने निफ्टी बैंक इंडेक्स को भी अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंचा दिया है।

दास ने वैश्विक बैंकिंग संकट, जैसे अमेरिका में सिलिकॉन वैली बैंक का पतन और यूरोप में क्रेडिट सुइस के संकट के संदर्भ में आरबीआई के सक्रिय दृष्टिकोण को भी स्पष्ट किया। उन्होंने कहा, “आज के माहौल में, जो वैश्विक अनिश्चितताओं और चुनौतियों से भरा है, वित्तीय क्षेत्र को स्थिर रखने के लिए एक अनुकूली और दूरदर्शी दृष्टिकोण जरूरी है।”

दास ने कहा कि आरबीआई वित्तीय प्रणाली की दीर्घकालिक स्थिरता और लचीलापन बढ़ाने के लिए नियामक व्यवस्था और पर्यवेक्षण के तरीकों में सुधार करेगा। उन्होंने कहा कि वित्तीय प्रणाली में तनाव कई स्रोतों से उत्पन्न हो सकता है, जैसे कि बैंक, वित्तीय इकाई या एनबीएफसी के आंतरिक कारक। ये समस्याएं बैलेंस शीट की कमी या छोटी समस्याओं से उत्पन्न हो सकती हैं, जिन्हें प्रबंधन नजरअंदाज कर देता है लेकिन समय के साथ वे बढ़ सकती हैं। इसके अलावा, इन संस्थाओं के भीतर धोखाधड़ी भी बड़ा तनाव पैदा कर सकती है। बाहरी कारक, जैसे जलवायु परिवर्तन, व्यापार चक्रों में बदलाव या गलत मौद्रिक नीतियां भी वित्तीय तनाव का कारण बन सकती हैं।

Latest news
Related news