• 15/08/2022 12:26 am

#Investment Tips: 2020 में इन विकल्‍पों में निवेश करना होगा फायदे का सौदा, अच्‍छे रिटर्न के साथ मिलेगा आयकर का भी लाभ

महामारी और तेजी से बदलते परिदृश्य के साथ, निवेशक अब अपने पोर्टफोलियो पर नए सिरे से विचार कर रहे हैं, और 2020 में कर-बचत निवेश प्राथमिकताओं में हम बदलाव देख सकते हैं। भारत के आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत, आप 1.50 लाख रुपये तक की कर योग्य आय में कटौती का दावा कर सकते हैं और इसके लिए इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम्स (ELSS), पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) और राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (NSC) जैसे अन्य ऐसे निवेश विकल्पों में निवेश कर सकते हैं, जो कटौती के लिए पात्र हैं। यहां कुछ ऐसे निवेश विकल्प दिए जा रहे हैं जिन्हें आप 2020 में अपने वित्तीय लक्ष्यों को कायम रखने और उन्हें पूरा करने के लिए चुन सकते हैं।

ईएलएसएस बनाम शेयर्स

भारतीय शेयर बाजारों में पिछले कुछ हफ्तों में अस्थिरता देखी गई है। हालांकि कुछ लोग ऐसा कह सकते हैं कि यह केवल अल्पकालिक के लिए है, आपको जल्दबाजी में निर्णय लेने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन यदि आप नुकसान के बारे में चिंतित हैं, तो आप शेयरों की तुलना में विविधीकरण और स्थिरता के लिए म्युचुअल फंड का विकल्प चुन सकते हैं। आप ईएलएसएस जैसे इक्विटी-उन्मुख म्युचुअल फंड का विकल्प चुन सकते हैं, क्योंकि इनमें कर-बचत भी है और आप धारा 80C के तहत कटौती का लाभ भी उठा सकते हैं।

लार्ज कैप फंड्स जो रहेंगे हमेशा कायम

बाजार में भले ही गिरावट का दौर हो, लेकिन आपको डरने की जरूरत नहीं है। आप अल्पकालिक सोच के बजाय दीर्घकालिक अवधि के लिए निवेशित रहने पर विचार कर सकते हैं। इतिहास बताता है कि बाजार कम समय में सही हो सकते हैं लेकिन लंबे समय में वे हमेशा बेहतर रिटर्न के साथ आपको लाभ देते हैं। एक सुरक्षित और स्थिर म्युचुअल फंड विकल्प है लार्ज-कैप फंड, जो बड़ी कंपनियों में निवेश करते हैं।

ये इक्विटी उन्मुख फंड टैक्स-सेविंग निवेश का हिस्सा नहीं हैं, लेकिन 2020 में आप इन्हें खरीदने पर विचार कर सकते हैं। बाजार उतार-चढ़ाव के दौरान, कुछ स्‍मॉल कैप और मिड कैप कंपनियों के शेयरों में बड़ी उठापटकदेखने को लि सकती है, वहीं लार्ज कैप फंड बड़े पैमाने पर स्थिर रहते हैं। यदि आप लगातार प्रदर्शन और लंबी अवधि के निवेश लक्ष्य के साथ कुछ इक्विटी भागीदारी की तलाश कर रहे हैं, तो आपको इन फंडों पर विचार करना चाहिए।

SIP शुरू करने का सही है वक्‍त 

चाहे आप लार्ज-कैप फंड चुनें या ईएलएसएस का विकल्प चुनें, आपको कोविड-19 के दौरान कुछ ऐसा निवेश करना चाहिए जो स्थिर रिटर्न दे सके। विविध जोखिम के साथ अधिकतम लाभ सुनिश्चित करने का एक और तरीका एकमुश्त भुगतान की बजाय एक सिस्टेमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान (SIP) चुनना है।

एक एसआईपी के साथ, आप रुपये की औसत लागत (Rupee Cost Averaging) का लाभ उठा सकते हैं, जहां मंदी के बाजारों के दौरान, आप अधिक म्युचुअल फंड यूनिट्स हासिल कर सकते हैं। जब बाजार में तेजी आएगी तो ये संभावित रूप से बेहतर रिटर्न प्रदान करेंगे। एसआईपी में लगातार निवेश करना हमेशा फायदेमंद साबित हुआ है और वास्तव में देखा जाए तो लंबी अवधि के दौरान एसआईपी हमेशा लाभप्रद साबित हुए हैं।

अनिश्चित परिस्थितियों में, किसी भी प्रकार के निवेश का निर्णय लेना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। जोखिम, टैक्‍सेशन, निवेश की समयसीमा और आपके वित्तीय लक्ष्यों को परखने के बाद निवेश का एक मिश्रित पोर्टफोलियो रखना अच्छा है। कोविड-19 के दौरान निवेश से निपटने का एक तरीका यह भी है कि आप आतंक की स्थिति पैदा नहीं करें। आपको अपने निवेश को मैराथन लंबी दौड़ की तरह देखने की जरूरत है, न कि स्प्रिंट की तरह, जो कि कम दूरी की तेज दौड़ में यकीन करते हैं।

इसलिए, अपने मौजूदा म्युचुअल फंड्स को कायम रखें, और अगर आपने 2020 में म्युचुअल फंड्स और अन्य टैक्स-सेविंग निवेश शुरू नहीं किए हैं, तो अब शुरू करने का यह एक उपयुक्त समय होगा। यह अल्पकालिक अशांति दरअसल दीर्घकालिक विकास का अवसर साबित हो सकती है।

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.