• 15/08/2022 12:11 am

#Commodity market:सोने-चांदी में कमजोरी, क्रूड में मजबूती, कमोडिटी में क्या हो कमाई की रणनीति

सोने-चांदी में आज कमजोरी देखने को मिल रही है। डॉलर में रिकवरी से कीमतों पर दबाव देखने को मिल रहा है। MCX पर सोना 51 हजार रुपए के करीब है, वहीं चांदी 70 हजार से नीचे फिसल गई है। पिछले कुछ दिनों में सोने लगातार एक दायरे में कंसोलिडेशन हो रहा है।

सोने की चमक फीकी

MCX पर सोना 51,300 रुपए के करीब है। कॉमेक्स पर सोना 1,970 डॉलर के पास दिख रहा है। डॉलर में रिकवरी से कीमतों पर दबाव है। US के अच्छे मैन्युफैक्चरिंग आंकड़ों से सोने पर दबाव है। US में मैन्युफैक्चरिंग 2 साल के ऊपरी स्तर पर है।

चांदी में कमजोरी

MCX पर चांदी 70,000 रुपए  के करीब दिख रही है। डॉलर में रिकवरी से कीमतों पर दबाव है।

कच्चे तेल में मजबूती

कच्चे तेल में आज मजबूती देखने को मिल रही है। ब्रेंट के दाम 46 डॉलर के करीब हैं। अमेरिका के अच्छे मैन्युफैक्चरिंग आंकड़ों से कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है। लेकिन बेस मेटल्स में आज सुस्ती दिख रही है। डॉलर में रिकवरी से कीमतों पर दबाव है।

क्रूड में बढ़त

क्रूड में मजबूती दिख रही है।  ब्रेंट 46 डॉलर के करीब दिख रहा है। US के अच्छे मैन्युफैक्चरिंग आंकड़ों से सपोर्ट मिल रहा है। US में लगातार 6वें हफ्ते इंवेंट्री में गिरावट दिखी है। API के मुताबिक US में क्रूड की इंवेंट्री 64 लाख बैरल घटी है।  गल्फ ऑफ मेक्सिको में उत्पादन अभी भी 28.4 फीसदी कम है।

बेस मेटल्स में सुस्ती

डॉलर में रिकवरी से ऊपरी स्तर पर दबाव देखने को मिल रहा है। चीन के मजबूत PMI आंकड़ों से सपोर्ट मिल रहा है। चिली में कॉपर उत्पादन जुलाई में 4.6 फीसदी घटा है। LME में कॉपर की इंवेंट्री 14 साल के निचले स्तर पर है। Citi का कहना है कि 2021 में कॉपर मार्केट Deficit में चला जाएगा।

एल्युमिनियम की इंवेंट्री में लगातार 6वें हफ्ते कमी आई है। एल्युमिनियम की इंवेंट्री 3 महीने के निचले स्तर पर है। चीन के पोर्ट्स पर निकेल ओर का स्टॉक घटा है। नैचुरल गैस में कमजोरी देखने को मिल रही है। नैचुरल गैस में लगातार चौथे दिन गिरावट देखने को मिल रही है। अगस्त में करीब 50 फीसदी बढ़त के बाद अब इसमें कमजोरी देखने को मिल रही है। US में इंवेंट्री पिछले साल के मुकाबले 20 फीसदी ज्यादा है।

एग्री की बात करें तो चना सहित ज्यादातर दालों में तेजी का रुझान देखने को मिल रहा है। NCDEX पर चना के दाम 33 महीने के ऊपरी स्तर पर हैं। त्योहारी मांग और सप्लाई तंग होने से चना में तेजी है। इसके अलावा कुछ राज्यों में फसल खराब होने से उड़द और मूंग में भी हाल के दिनों में मजबूती देखने को मिली है। उधर सोयाबीन में लगातार दूसरे दिन गिरावट देखने को मिल रही है। विदेशी बाजारों से कमजोर संकेतों से इस पर दबाव है।

For Ragular Update Visit Our Site.

                                  Click Link Below.

https://newsmarkets24.com

twitter.com/newsmarkets24

https://www.facebook.com/newsmarkets

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.