• 11/08/2022 8:22 pm

#स्टॉकिस्टों की सक्रियता से #सरसों में और तेजी की संभावना, मंडियों में स्टॉक कम

दैनिक आवक कम होने के कारण सरसों की कीमतों में तेजी बनी हुई है। राजस्थान की मंडियों में गुरूवार को सरसों के भाव बढ़कर 5,200 से 5,200 रुपये प्रति क्विंटल (कंडीशन) हो गए। उत्पादक राज्यों में बकाया स्टॉक कमजोर है, जबकि नेफेड भाव बढ़ाकर बिकवाली कर रही है इसलिए स्टॉकिस्टों की सक्रियता बना हुई है जिससे सरसों की कीमतों में आगे और भी तेजी आने का अनुमान है।

भरतपुर मंडी के सरसों कारोबारी के अनुसार उत्पादक राज्यों में सरसों का बकाया स्टॉक कम होने के कारण मंडियों में आवक कम हो रही है, जबकि सरसों तेल में मांग बराबर बनी हुई है। इसलिए सरसों के भाव में और भी 300 से 400 रुपये प्रति क्विंटल की तेजी आने का अनुमान है। पहली सितंबर को नेफेड ने राजस्थान में सरसों 5,270 से 5,390 रुपये और मध्य प्रदेश में 5,112 रुपये प्रति क्विंटल के बेची है।

अलवर के सरसों कारोबारी के अनुसार बड़ी तेल मिलें नेफेड से सरसों की खरीद कर रही हैं, जबकि छोटी मिलें मंडियों से खरीद रही है। उन्होंने बताया कि मंडियों में आवक कम होने से भाव तेज बने हुए हैं तथा आगे भी भाव में और तेजी आयेगी, लेकिन एकतरफा भाव नहीं बढ़ेगें। इसलिए मंदा आने पर अभी खरीद करके ही व्यापार करना चाहिए। भाव में तेजी को देखते आगे सरसों की बुआई में भी बढ़ोतरी का अनुमान है।

कृषि मंत्रालय के चौथे आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2019-20 में सरसों का उत्पादन 91.16 लाख टन का हुआ है जबकि इसके पिछले साल 92.56 लाख टन का उत्पादन हुआ था।

 

For Ragular Update Visit Our Site.

                                  Click Link Below.

https://newsmarkets24.com

twitter.com/newsmarkets24

https://www.facebook.com/newsmarkets

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.