Thursday, July 18, 2024

सेना अग्निपथ की आयु सीमा 23 वर्ष करने तथा 50% तक प्रतिधारण बढ़ाने की मांग

वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि सशस्त्र बलों द्वारा सरकार को सुझाव दिया जाएगा कि अग्निपथ योजना में भर्ती की आयु सीमा 23 वर्ष कर दी जाए और चार साल बाद कम से कम 50% को सेवा में रखा जाए। इन बदलावों का मकसद “युद्ध प्रभावशीलता” को बढ़ाना है।

अग्निपथ योजना, जो दो साल पहले शुरू की गई थी, खासकर उत्तरी राज्यों में आलोचना का शिकार हुई है और माना जाता है कि इस कारण भाजपा को चुनावों में वोटों का नुकसान हुआ है। इन प्रस्तावित बदलावों की मांग ऐसे समय में की जा रही है जब इस योजना पर विवाद हो रहा है और राष्ट्रीय सुरक्षा पर इसके प्रभाव को लेकर राजनीतिक मतभेद बढ़ रहे हैं।

अधिकारियों में से एक ने बताया कि प्रस्तावित बदलावों में पहला यह है कि स्नातकों को शामिल करने के लिए आयु सीमा 21 से बढ़ाकर 23 वर्ष की जाए। इससे वे तीनों सेवाओं में तकनीकी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकेंगे।

दूसरे अधिकारी ने बताया कि जनशक्ति की कमी से निपटने के लिए 25% की बजाय कम से कम 50% अग्निवीरों को सेवा में बनाए रखने का प्रस्ताव है।

पहले अधिकारी ने कहा, “ये बदलाव युद्ध प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए आवश्यक हैं।” उन्होंने बताया कि विरासत भर्ती प्रणाली के तहत बड़ी संख्या में स्नातकों को शामिल किया जाता था। इसलिए आयु सीमा को बढ़ाना जरूरी है।

अभी की योजना के तहत केवल 17.5 से 21 वर्ष की आयु के युवा पुरुष और महिलाएं चार वर्षों के लिए भर्ती हो सकते हैं, जिसमें से 25% को अगले 15 वर्षों के लिए नियमित सेवा में रखा जाएगा।

विरासत प्रणाली के तहत, 17.5 से 23 वर्ष की आयु के आवेदक तकनीकी पदों के लिए आवेदन कर सकते थे, जबकि सामान्य ड्यूटी के लिए ऊपरी आयु सीमा 21 वर्ष थी। विरासत प्रणाली के सैनिक लगभग 20 साल सेवा करते हैं और फिर 30 के दशक के अंत में पेंशन और अन्य लाभों के साथ सेवानिवृत्त होते हैं, जो अग्निवीरों को नहीं मिलते।

तीसरे अधिकारी ने कहा कि कम प्रतिधारण दर से महत्वपूर्ण धाराओं में जनशक्ति की कमी हो सकती है। “अगर तकनीकी धारा में भर्ती अग्निवीरों में से कोई भी 25% प्रतिधारित सैनिकों में नहीं आता, तो उन क्षेत्रों में बहुत बड़ी कमी हो जाएगी। इससे बचने के लिए प्रतिधारण दर को बढ़ाना जरूरी है।”

इस योजना में प्रशिक्षित जनशक्ति के बेहतर प्रबंधन के मुद्दों को भी सुलझाना चाहिए।

Latest news
Related news