Sunday, May 19, 2024

शी जिनपिंग और व्लादिमीर पुतिन ने संबंधों को बताया ‘स्थिरता’ प्रदान करने वाली ताकत

नेता शी जिनपिंग और व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को बीजिंग में मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान उन्होंने अपने देशों के संबंधों को एक स्थिर शक्ति के रूप में दिखाया। रूसी राष्ट्रपति यूक्रेन में अपने युद्ध प्रयासों और अलग-थलग अर्थव्यवस्था के लिए अधिक चीनी समर्थन की मांग कर रहे हैं। यह मुलाकात पुतिन की पहली विदेश यात्रा है छह महीने से कुछ अधिक समय में चीन की दूसरी यात्रा है।

मुलाकात के दौरान ग्रेट हॉल ऑफ द पीपल में एक भव्य स्वागत समारोह हुआ। दोनों नेताओं ने अपने देशों के राष्ट्रगान और मार्शल धुनें बजाईं। इससे पुतिन की दो दिवसीय यात्रा की शुरुआत हुई, जिसमें उम्मीद है कि दोनों देश अपने संबंधों को और गहरा करेंगे।

मुलाकात में शी ने पुतिन को अपने “पुराने दोस्त” कहा और कहा कि चीन-रूस संबंध “शांति के लिए अनुकूल” हैं। उन्होंने कहा कि चीन रूस के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार है, ताकि दुनिया में निष्पक्षता और न्याय कायम रहे।

पुतिन ने कहा कि दोनों देशों के संबंध “अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में स्थिरता लाने वाले कारक” हैं। उन्होंने कहा कि रूस और चीन के संबंध अवसरवादी नहीं हैं और किसी के खिलाफ़ नहीं हैं। उन्होंने बताया कि वे न्याय के सिद्धांतों और एक लोकतांत्रिक विश्व व्यवस्था को कायम रखते हैं।

मुलाकात के बाद, दोनों नेताओं ने एक संयुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किए, जिसमें दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक शाम में भाग लेने का ऐलान किया गया।

चीन और रूस के बीच संबंधों में अब और भी महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। यहां तक कि अमेरिका की चेतावनी है कि चीन ने यूक्रेन के समर्थन में रूस को मदद की है। इसके बावजूद, चीन और रूस के बीच संबंध और भी गहराए जा रहे हैं।

Latest news
Related news