• 19/08/2022 4:18 pm

#व्हाइट हाउस के बाहर फायरिंग: ट्रंप को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया, हमलावर गिरफ्तार

वाशिंगटन, एजेंसी। अमेरिका में व्हाइट हाउस (राष्ट्रपति आवास) के बाहर सोमवार शाम फायरिंग होने से खलबली मच गई। जिस समय यह फायरिंग हुई उस वक्त राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना महामारी को लेकर मीडिया को जानकारी दे रहे थे। बीच प्रेस कांफ्रेंस से सीक्रेट सर्विस के एजेंट उन्हें ओवल हाउस (राष्ट्रपति कार्यालय) ले गए। थोड़ी देर बाद ट्रंप ब्रीफिंग रूम में फिर से लौटे और व्हाइट हाउस के नजदीक फायरिंग होने की पुष्टि की।

ट्रंप ने कहा- सब कुछ नियंत्रण में है 

उन्होंने रिपोर्टरों को भरोसा दिलाया कि सब कुछ नियंत्रण में है। जानकारी के अनुसार सीक्रेट सर्विस की तरफ से की गई कार्रवाई में फायरिंग करने वाले शख्स को गोली लगी है। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, ‘व्हाइट हाउस के बाहर गोलीबारी हुई थी, लेकिन अब स्थिति नियंत्रण में है।

सीक्रेट सर्विस की त्वरित और प्रभावी कार्रवाई के चलते हमलावर गिरफ्तार

मैं सीक्रेट सर्विस के कर्मचारियों को उनके द्वारा की गई त्वरित और प्रभावी कार्रवाई के लिए धन्यवाद देना चाहूंगा। किसी शख्स को अस्पताल ले जाया गया है। मैं नहीं जानता कि उसकी हालत कैसी है, लेकिन लगता है कि उस शख्स को सीक्रेट सर्विस की तरफ से गोली मारी गई है।’ वहीं बाद में सीक्रेट सर्विस ने ट्वीट किया, ’17 स्ट्रीट और पेंसिलवेनिया एवेन्यू में व्हाइट हाउस के एक ब्लॉक में गोलीबारी की घटना के बाद हमलावर और सीक्रेट सर्विस के एक जवान को अस्पताल ले जाया गया है।’ उधर, व्हाइट हाउस के बाहर खड़े एक व्यक्ति के मुताबिक उसने दो राउंड फायरिंग की आवाज सुनी।

राष्ट्रपति चुनाव के बाद जी-7 की मेजबानी करना चाहते हैं ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को कहा कि वह नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के बाद सात प्रमुख औद्योगिक समूह (जी-7) की मेजबानी करना चाहते हैं। ट्रंप ने कहा, ‘मेरी इच्छा है कि राष्ट्रपति चुनाव के जी-7 की बैठक को आयोजित किया जाए।’ वह इस बैठक में रूस को भी आमंत्रित करना चाहते हैं। क्रीमिया पर कब्जे के चलते रूस को वर्ष 2014 में समूह से बाहर कर दिया गया था। तब इस समूह का नाम जी-8 हुआ करता था। ट्रंप ने रविवार को अपने स्टाफ से कहा था कि वह चुनाव बाद जी-7 की मेजबानी करना चाहते हैं। इससे सभी सदस्य देशों को महत्वपूर्ण बैठक के बारे में विचार-विमर्श करने के लिए अधिक समय मिलेगा।

ट्रंप ने कहा- कोरोना के कारण बैठक व्यक्ति या टेलीकांफ्रेंस के माध्यम से हो सकती है

ट्रंप ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण बैठक व्यक्ति या टेलीकांफ्रेंस के माध्यम से हो सकती है। बता दें कि कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन और अमेरिका जी-7 के सदस्य देश हैं। 27 देशों के समूह यूरोपीय यूनियन भी इसकी बैठक में हिस्सा लेता है।

ट्रंप के वकीलों ने दी दलील 

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के वकीलों ने न्यूयॉर्क के अभियोजकों को कर रिकॉर्ड प्राप्त करने से रोकने के लिए सोमवार को अंतिम दलील पेश की। इस दौरान उन्होंने कहा कि डेमोक्रेट अभी भी राष्ट्रपति के उत्पीड़न को सही ठहराने की कोशिश कर रहे हैं। वकीलों ने इस संबंध में संघीय न्यायाधीश को लिखित जवाब पेश किए।

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.