Friday, July 19, 2024

वैश्विक आपूर्ति में व्यवधान के कारण खाद्य तेल बाजार में कीमतों में उछाल

बंदरगाहों पर रुकावटें, शिपमेंट में देरी, और माल ढुलाई की बढ़ी हुई लागत ने कुल मिलाकर कीमतों में वृद्धि कर दी है। हाल के महीनों में खाद्य तेल बाजार में भी कीमतें बढ़ गई हैं। कई वैश्विक कारणों से ये कीमतें बढ़ी हैं, जिससे अधिकांश खाद्य तेलों की कीमतें 50 से 70 रुपये प्रति 10 किलोग्राम तक बढ़ी हैं।

अभी कपास के तेल की कीमत 930 रुपये प्रति 10 किलोग्राम से बढ़कर 975 रुपये हो गई है। सोयाबीन तेल की कीमत 910 रुपये प्रति 10 किलोग्राम से बढ़कर 970 रुपये हो गई है और चावल की भूसी का तेल 890 रुपये से बढ़कर 950 रुपये प्रति 10 किलोग्राम हो गया है। इसी तरह, सूरजमुखी तेल की कीमत 900 रुपये से बढ़कर 980 रुपये और सरसों तेल की कीमत 1060 रुपये से बढ़कर 1190 रुपये प्रति 10 किलोग्राम हो गई है।

रूस और यूक्रेन से सूरजमुखी तेल की आपूर्ति ऑफ-सीजन के कारण सीमित हो गई है। उच्च तापमान के कारण इस समस्या में और भी वृद्धि हुई है, जिससे पिछले और आने वाले सीजन की फसलों पर असर पड़ा है। इसके कारण अन्य तेलों की मांग और कीमतें भी बढ़ गई हैं। रूस-यूक्रेन संघर्ष ने सूरजमुखी तेल की वैश्विक आपूर्ति को प्रभावित किया है, क्योंकि यूक्रेन एक प्रमुख उत्पादक है।

अर्जेंटीना में श्रमिकों के विरोध और ब्राजील में बाढ़ ने सोयाबीन तेल की आपूर्ति को बाधित किया है। इस सीजन में सोयाबीन की कम पेराई और अर्जेंटीना से कम शिपमेंट ने आपूर्ति को घटाया है, जिससे कीमतें बढ़ी हैं। इसके अलावा, इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष ने आपूर्ति श्रृंखला में और भी बाधा डाली है, जिससे विभिन्न खाद्य तेलों की उपलब्धता और कीमतें प्रभावित हुई हैं।

बंदरगाहों पर रुकावटें, शिपमेंट में देरी, और माल ढुलाई की बढ़ी हुई लागत ने स्थिति को और खराब किया है, जिससे कुल मिलाकर कीमतें बढ़ी हैं।

एनके प्रोटीन्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक प्रियम पटेल ने कहा, “बाजार की स्थितियां ठीक होने और भू-राजनीतिक तनाव कम होने से स्थिरता की उम्मीद है। संघर्षों का समाधान आपूर्ति श्रृंखला स्थिरता में सुधार करेगा और कीमतें घटेगी। आगामी फसल सीजन में उत्पादन बढ़ने से आपूर्ति में वृद्धि होगी और कीमतों को स्थिर करने में मदद मिलेगी। सरकार के उपाय भी बाजार स्थिरता में योगदान देंगे।”

Latest news
Related news