Friday, July 19, 2024

भारत में भीषण सड़क दुर्घटना में मरने वालों की संख्या 120 के पार

पुलिस रिपोर्ट के अनुसार, उत्तरी भारत में एक हिंदू धार्मिक समागम में लगभग 250,000 लोग इकट्ठा हुए थे, जहां भीड़ के कारण 121 लोगों की मौत हो गई। यह हादसा उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के एक गांव में मंगलवार को हुआ, जब लाखों लोग स्वयंभू गुरु भोले बाबा के दर्शन करने पहुंचे थे।

अधिकारियों के अनुसार, इस समारोह में उमड़ी भीड़ सरकारी अनुमति से तीन गुना अधिक थी। सरकार ने केवल 50,000 लोगों के जुटने की अनुमति दी थी, लेकिन वहां 250,000 लोग पहुंच गए। बाबा, जिनका असली नाम नारायण साकर विश्व हरि है, के दर्शन करने के लिए लोग बहुत बड़ी संख्या में आए थे।

भीड़ तब अनियंत्रित हो गई जब लोग गुरु के पैर छूने और उनकी खड़े होने की जगह की मिट्टी लेने की कोशिश कर रहे थे। आयोजकों ने लोगों को नियंत्रित करने के लिए बल प्रयोग किया, जिससे स्थिति और बिगड़ गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, बारिश होने के कारण लोग फिसल गए और भीड़ में कुचलकर गिर गए। मरने वालों में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे थे।

पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक, स्थल से निकलने की कोशिश में लोग एक-दूसरे पर गिर गए और कुचले गए। आयोजन समिति ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठी-डंडों का इस्तेमाल किया, जिससे स्थिति और खराब हो गई। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीड़ितों की हर संभव मदद का आश्वासन दिया है।

पुलिस ने कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और बाबा विश्व हरि की गिरफ्तारी की कोशिशें जारी हैं। अभी तक आयोजकों या गुरु की ओर से कोई बयान नहीं आया है।

बाबा पहले पुलिस अधिकारी थे और बाद में स्वयंभू गुरु बन गए। उन्होंने कई वर्षों से इस तरह के धार्मिक आयोजनों का आयोजन किया है।

मृतकों और लापता लोगों के परिवार हाथरस के अस्पताल और मुर्दाघर में अपने प्रियजनों की जानकारी पाने के लिए जुटे हैं। विकास कुमार, जिनकी दादी इस हादसे में मारी गईं, ने बताया कि सत्संग के बाद लोग मिट्टी लेने के लिए आगे बढ़े और बारिश के कारण फिसल गए।

भारत में धार्मिक आयोजनों में भीड़ के कारण दुर्घटनाएं पहले भी होती रही हैं। संसद सदस्य राजेश कुमार झा ने सवाल उठाया कि इन घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन क्यों नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं लेंगे तो ऐसी घटनाएं होती रहेंगी।

Latest news
Related news