Saturday, June 22, 2024

भारतीय शेयर बाजार क्यों बढ़ रहा है?

भारतीय शेयर बाजार में गुरुवार, 23 मई को जबरदस्त खरीदारी देखने को मिली, जिससे सेंसेक्स और निफ्टी 50 दोनों में 1 प्रतिशत से अधिक की बढ़त दर्ज की गई।

निफ्टी 50 पिछले बंद स्तर 22,597.80 से बढ़कर 22,614.10 पर खुला और सत्र के दौरान एक प्रतिशत से अधिक उछलकर 22,860.65 के नए रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया।

सेंसेक्स पिछले बंद स्तर 74,221.06 से बढ़कर 74,253.53 पर खुला और सत्र के दौरान एक प्रतिशत से अधिक बढ़कर 75,065.36 के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। दोपहर 1:40 बजे के आसपास, सेंसेक्स 1.05 प्रतिशत बढ़कर 75,003 पर था, जबकि निफ्टी 50 1.06 प्रतिशत बढ़कर 22,837 पर था। इस समय निफ्टी मिडकैप इंडेक्स और स्मॉलकैप इंडेक्स 100 में क्रमशः 0.46 प्रतिशत और 0.24 प्रतिशत की बढ़त थी।

विशेषज्ञों ने पांच प्रमुख कारण बताए, जिनकी वजह से बाजार में तेजी आई:

  1. चुनाव संबंधी घबराहट को कम करना: चुनाव से जुड़ी घबराहट कम होने से बाजार में तेजी आई है। लोकसभा चुनाव के बाद राजनीतिक स्थिरता की उम्मीद से निवेशक अच्छे शेयर खरीद रहे हैं। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा, “निफ्टी का नया रिकॉर्ड बनाना चुनाव के बाद राजनीतिक स्थिरता का संकेत है। इस तेजी का नेतृत्व उचित मूल्य वाले बड़े शेयर कर रहे हैं।” बर्नस्टीन के अनुसार, चुनाव के दौरान या नतीजों के बाद निफ्टी 50 23,000 के स्तर को पार कर सकता है, लेकिन इसके बाद मुनाफावसूली हो सकती है।
  2. मैक्रो फैक्टर: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा वित्त वर्ष 2024 के लिए सरकार को रिकॉर्ड ₹ 2.11 लाख करोड़ लाभांश देने की घोषणा से बाजार की धारणा को बढ़ावा मिला है। इससे सरकार को वित्त वर्ष 2025 के राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने में मदद मिलेगी। विजयकुमार ने कहा, “आरबीआई का यह लाभांश सरकार को जीडीपी का 0.3 प्रतिशत अतिरिक्त राजकोषीय गुंजाइश देगा, जिससे सरकार अपने राजकोषीय घाटे को कम कर सकेगी और बुनियादी ढांचे पर खर्च बढ़ा सकेगी।” कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट भी बाजार की धारणा के लिए एक और सकारात्मक संकेत है, क्योंकि इससे मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने और राजकोषीय स्वास्थ्य को सुधारने में मदद मिलती है।
  3. बैंकिंग दिग्गजों में बढ़त: एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक जैसे प्रमुख बैंकिंग शेयरों ने सेंसेक्स और निफ्टी 50 को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई। आरबीआई द्वारा सरकार को बड़े लाभांश भुगतान के बाद भारत के 10 साल के बांड यील्ड में गिरावट आई है। विजयकुमार ने कहा, “सरकार द्वारा कम उधारी लेने के कारण बांड यील्ड में गिरावट आई है, जो बैंकिंग शेयरों के लिए सकारात्मक है।” निफ्टी बैंक सूचकांक गुरुवार को इंट्राडे कारोबार में लगभग 2 प्रतिशत उछल गया।

ये प्रमुख कारण थे जिन्होंने गुरुवार को भारतीय शेयर बाजार को मजबूती दी।

Latest news
Related news