Sunday, June 23, 2024

भारतीय शेयर बाजारों में चार साल की सबसे बड़ी गिरावट

देश के आम चुनाव की मतगणना के बाद संकेत मिला है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पार्टी बहुमत वाली सरकार नहीं बना पाएगी, जिसके कारण भारतीय शेयर बाजारों में भारी गिरावट आई है।

एनएसई निफ्टी 50 शेयर सूचकांक लगभग 6% नीचे बंद हुआ, जो मार्च 2020 में भारत के पहले कोविड लॉकडाउन के बाद से सबसे बड़ी गिरावट है। प्रारंभिक परिणाम बताते हैं कि मोदी की पार्टी को सहयोगियों पर निर्भर रहना पड़ सकता है और उन्हें गठबंधन सरकार बनानी पड़ सकती है। कुछ विश्लेषकों का कहना है कि इससे आर्थिक नीतियों पर अनिश्चितता पैदा हो सकती है।

एनएसई निफ्टी 50, जिसमें विभिन्न बड़ी कंपनियों के शेयर शामिल हैं, एक समय 8.5% तक गिर गया था, लेकिन दिन के अंत में 5.9% की गिरावट के साथ 21,884.5 अंक पर बंद हुआ। एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स में भी भारी गिरावट आई और यह 5.7% गिरकर 72,079.05 पर बंद हुआ। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 0.5% गिर गया, जो 16 महीनों में सबसे बड़ी गिरावट है।

भारत के आम चुनाव में आधे से अधिक मतों की गिनती हो चुकी है, और ऐसा लग रहा है कि मोदी की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को संसद के 543 सदस्यीय निचले सदन में बहुमत हासिल नहीं होगा। अगली सरकार बनाने के लिए उसे राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सहयोगियों पर निर्भर रहना पड़ सकता है।

विश्लेषकों का सुझाव है कि इससे आर्थिक नीतियों को लेकर कुछ अनिश्चितता पैदा हो सकती है, जैसे कि निवेश को बढ़ावा देना, जो मोदी सरकार की प्राथमिकता रही है। सिटी ग्लोबल वेल्थ के केन पेंग ने रॉयटर्स को बताया, “मुख्य प्रश्न यह है कि क्या भाजपा एकल बहुमत बरकरार रख पाएगी। यदि नहीं, तो क्या उनका गठबंधन आर्थिक विकास, विशेषकर बुनियादी ढांचे का विकास करने में सक्षम होगा?”

व्हाइटस्पेस अल्फा के पुनीत शर्मा ने रॉयटर्स को बताया कि यदि नई सरकार गठबंधन सहयोगियों पर निर्भर है, तो वह “जुलाई के बजट के दौरान सुधारों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय” कल्याण पर अधिक जोर दे सकती है। हिंदू राष्ट्रवादी भाजपा ने 2014 और 2019 में बहुमत हासिल किया था। सप्ताहांत में आए एग्जिट पोल में मोदी और भाजपा को महत्वपूर्ण जीत मिलने का अनुमान लगाया गया था, जिसके बाद सोमवार को बाजार में उछाल आया था। लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि भाजपा अकेले बहुमत हासिल करने से चूक जाएगी।

बाजार विश्लेषक फियोना सिनकोटा ने बीबीसी को बताया कि प्रमुख भारतीय शेयर सूचकांक “काफी बुरी तरह प्रभावित” हुए हैं। उन्होंने कहा कि कुछ व्यक्तिगत शेयरों में “बहुत बड़ी गिरावट” आई है, जिनमें तेल एवं गैस कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज और बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं।

Latest news
Related news