Thursday, July 18, 2024

पाम ऑयल क्षेत्र में खेती से खाद्य तेल आयात में कमी आएगी

सिंध कृषि विश्वविद्यालय (एसएयू), तंडो जाम ने सफलतापूर्वक पाम ऑयल उत्पादन का प्रयोग किया है। विशेषज्ञों ने किसानों को पाम ऑयल की खेती के लिए प्रोत्साहित करने और उनके लिए विपणन तंत्र विकसित करने की आवश्यकता पर जोर दिया। इस पहल से खाद्य तेल के आयात में कमी आ सकती है, जिससे आर्थिक संकट का सामना करने में मदद मिलेगी। शहरी निवेशकों को कृषि में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

एसएयू ने पाकिस्तान कृषि अनुसंधान परिषद इस्लामाबाद के सहयोग से “ऑयल पाम उत्पादन प्रौद्योगिकी और उन्नत नर्सरी प्रबंधन” पर एक सेमिनार आयोजित किया। कुलपति डॉ. फतेह मैरी ने बताया कि पाकिस्तान हर साल 6 बिलियन डॉलर का खाद्य तेल आयात करता है, जो फर्नेस ऑयल के बाद दूसरा सबसे बड़ा आयात है। तटीय क्षेत्रों में पाम ऑयल की खेती बढ़ाकर आईएमएफ पर निर्भरता कम की जा सकती है। उन्होंने शहरी निवेशकों को कृषि में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया।

फसल उत्पादन संकाय के डीन डॉ. इनायतुल्लाह राजपर ने कहा कि सभी हितधारकों को मिलकर काम करना चाहिए और तटीय क्षेत्रों का सही उपयोग करना चाहिए। पाम ऑयल परियोजना के प्रमुख अन्वेषक डॉ. अल्लाह वधायो गंधही ने बताया कि उनकी शोध से किसानों को बीज, खेती की तकनीक और विपणन में मदद मिलेगी। उन्होंने पाम ऑयल को एक बड़ा बदलाव बताया, जिससे खाद्य तेल के आयात में कमी आएगी।

PARC के डॉ. मुहम्मद असलम मेमन ने औद्योगिक भागीदारी की आवश्यकता बताई। प्रगतिशील किसान अल्लाह वरायो बोजदार ने पाम ऑयल के लिए विपणन तंत्र की आवश्यकता पर जोर दिया। कार्यक्रम में कई कृषि विशेषज्ञ, किसान और छात्र शामिल हुए।

Latest news
Related news