Friday, July 19, 2024

ताजिकिस्तान की संसद ने हिजाब और इस्लामी परिधानों पर विवादास्पद प्रतिबंध को मंजूरी दी

ताजिकिस्तान की संसद ने हाल ही में एक विवादास्पद कानून को मंजूरी दी है, जिसके तहत हिजाब और अन्य इस्लामी परिधानों पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। इस कानून से मुस्लिम बहुल आबादी में चिंता बढ़ सकती है, क्योंकि ताजिकिस्तान तालिबान शासित अफगानिस्तान की सीमा के पास स्थित है।

रेडियो फ्री यूरोप (आरएफई) के अनुसार, ताजिकिस्तान के उच्च सदन मजलिसी मिल्ली ने 19 जून को एक कानून पारित किया, जो ईद-उल-फितर और ईद-उल-अज़हा के दौरान बच्चों के उत्सवों पर रोक लगाता है। इस कानून का उद्देश्य “विदेशी परिधान” पहनने पर रोक लगाना है और इसे पहले 8 मई को निचले सदन मजलिसी नमोयंदागोन द्वारा पारित किया गया था।

धर्म समिति के प्रमुख के अनुसार, इस कानून का उद्देश्य धार्मिक अनुष्ठानों के दौरान बच्चों को “उचित शिक्षा और सुरक्षा” प्रदान करना है। राष्ट्रपति रुस्तम इमोमाली की अध्यक्षता में संसद के 18वें सत्र के दौरान, सांस्कृतिक प्रथाओं, बच्चों के पालन-पोषण और माता-पिता के कर्तव्यों से संबंधित कानूनों में भी बदलाव का समर्थन किया गया।

नए नियमों का उल्लंघन करने पर भारी जुर्माना लगाया जा सकता है। व्यक्तियों पर 7,920 सोमोनी तक का जुर्माना और कंपनियों पर 39,500 सोमोनी तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। अधिकारियों और धार्मिक नेताओं पर इससे भी ज्यादा जुर्माना, क्रमशः 54,000 और 57,600 सोमोनी तक लगाया जा सकता है।

इस कानून ने ताजिकिस्तान की मुख्य रूप से मुस्लिम आबादी के बीच बहस को जन्म दिया है। अधिकारियों ने इस तरह के पहनावे को इस्लामी चरमपंथ से जोड़ा है। इस फैसले की इस्लामिक स्कॉलर्स के संघ ने निंदा की है और अफगानिस्तान के कुछ मौलवियों ने “जिहाद” की घोषणा की है। ताजिकिस्तान के धार्मिक हस्तियों, अधिकारियों, विश्वविद्यालय के प्रोफेसरों और ब्लॉगर्स ने इन आह्वानों पर प्रतिक्रिया दी है।

2017 में राष्ट्रपति रहमोन ने महिलाओं द्वारा “विदेशी” काले कपड़े पहनने की आलोचना करते हुए पुरुषों और महिलाओं के लिए “उपयुक्त” ड्रेस कोड स्थापित करने के लिए एक विशेष आयोग को अधिकृत किया था। उनकी टिप्पणियों ने ताजिकिस्तान में काले इस्लामी पोशाक की बढ़ती लोकप्रियता को निशाना बनाया। 2015 से पहले भी इस तरह के कपड़ों की आलोचना की गई थी। तब से हिजाब के खिलाफ अभियान शुरू किया गया, जिसमें संस्थागत नेताओं ने कर्मचारियों को काम पर इसे पहनने से परहेज करने का निर्देश दिया।

ताजिकिस्तान में हिजाब पर प्रतिबंध का इतिहास रहा है। 2007 में शिक्षा मंत्रालय ने सबसे पहले छात्रों पर और बाद में सभी सार्वजनिक संस्थानों में हिजाब पर प्रतिबंध लगाया। हालांकि, अधिकारियों ने कुछ महिलाओं द्वारा रिपोर्ट की गई व्यापक कार्रवाई से इनकार किया है।

हाल के वर्षों में ताजिकिस्तान ने पारंपरिक ताजिक कपड़ों को बढ़ावा देने के लिए अभियान चलाए हैं। इन पहलों में पारंपरिक ताजिक पोशाक पहनने को प्रोत्साहित करने वाले व्यापक पाठ संदेश शामिल थे और 2018 में अनुशंसित पोशाक पर एक विस्तृत गाइडबुक प्रकाशित की गई थी।

Latest news
Related news