Friday, July 19, 2024

डॉलर में गिरावट के बावजूद सोने में बढ़त बरकरार

बुधवार को यूरोप में व्यापार के दौरान सोने की कीमतों में तेजी देखी गई, और डॉलर के कमजोर होने के बावजूद यह लगातार दूसरे दिन भी बढ़ती रही। इस वजह से सोने की कीमतें दो सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गईं।

हाल ही में आए अमेरिकी खुदरा बिक्री के आंकड़ों ने अर्थव्यवस्था की कमजोर स्थिति को दर्शाया है, जिसके चलते फेडरल रिजर्व इस साल दो बार ब्याज दरों में कटौती कर सकता है।

आज सोने की कीमतें 0.25% बढ़कर 2335 डॉलर प्रति औंस हो गईं, जबकि सत्र का न्यूनतम मूल्य 2326 डॉलर रहा।

मंगलवार को कीमतों में 0.45% की वृद्धि हुई थी, जो तीन दिनों में दूसरी बार बढ़ोतरी थी, क्योंकि डॉलर और अमेरिकी ट्रेजरी दोनों में गिरावट आई थी।

बुधवार को डॉलर सूचकांक में 0.1% की गिरावट आई, जिससे प्रमुख प्रतिद्वंद्वियों के मुकाबले लगातार तीसरे सत्र में गिरावट जारी रही।

कमजोर डॉलर के कारण अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए डॉलर-मूल्यवान सोने का वायदा सस्ता हो जाता है।

मई माह में अमेरिकी खुदरा बिक्री में 0.1% की गिरावट आई, जो 0.2% वृद्धि के अनुमान से कम है।

यह इस बात का संकेत है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था दूसरी तिमाही में संघर्ष कर रही है।

आंकड़ों के अनुसार, जुलाई में फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में 0.25% की कटौती की संभावना बढ़कर 10%, सितम्बर में 67% तथा नवम्बर में 80% हो गई।

अब निवेशक इस सप्ताह कई फेड अधिकारियों के भाषणों की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जिसमें अमेरिका में मुद्रास्फीति के साथ बढ़ती लड़ाई और ब्याज दरों के लिए आगे की राह पर नजर रखी जाएगी।

एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट में सोने का भंडार कल 825.31 टन पर स्थिर रहा, जो 13 मार्च के बाद सबसे कम है।

Latest news
Related news