Friday, July 19, 2024

खंडित विश्व व्यवस्था के बीच भारत कैसे पश्चिम और वैश्विक दक्षिण के बीच सेतु का काम करता है

इटली के प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी ने 13-15 जून तक अपुलिया क्षेत्र में जी-7 शिखर सम्मेलन का आयोजन किया है। यह समय दुनिया के लिए कई महत्वपूर्ण बदलावों और चुनौतियों का है। यूरोप और मध्य पूर्व में चल रहे युद्धों ने मेलोनी की भूमिका पर सवाल खड़े कर दिए हैं। वैश्विक उदारवादी व्यवस्था दबाव में है, जिसके लिए इसके संस्थापक ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने बहुपक्षीय शासन को कमजोर करते हुए एकतरफा उपायों, मनमाने प्रतिबंधों और निर्देशात्मक आदेशों का सहारा लिया, जो उनके खुद के पालन में भी असफल रहे।

जी7 की स्थापना 1975 में हुई थी, जब तेल संकट और अरब देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों ने प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को प्रभावित किया था। अब, 50 वर्षों बाद, इस शिखर सम्मेलन को कोविड-19 महामारी, रूस-यूक्रेन युद्ध और इज़राइल-हमास युद्ध जैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। इन दोनों युद्धों में पूरी दुनिया को प्रभावित करने की क्षमता है, और परमाणु युद्ध की चर्चा आम हो गई है।

चीन भी जी7 के लिए बड़ी चुनौती बन गया है। समूह अभी भी पुराने तरीके और उपाय अपनाकर प्रभाव को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहा है, जिससे रूस और चीन के बीच और अधिक संरेखण हो रहा है। इस प्रकार, ये दोनों देश अपनी विश्व व्यवस्था को बढ़ावा दे रहे हैं, जबकि संयुक्त राष्ट्र जैसी बहुपक्षीय संस्थाओं की प्रधानता को भी चुनौती दे रहे हैं।

जी-7 देश यूक्रेन पर रूसी आक्रमण को लेकर चिंतित हैं और पुतिन को पराजित करने की कोशिश कर रहे हैं। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ज़ेलेंस्की को उन्नत हथियार प्रणाली प्रदान करने और पूर्वी यूक्रेन के पुनर्निर्माण के लिए पश्चिमी बैंकों में रूसी निधियों में से 50 बिलियन डॉलर देने पर सहमति जताई गई।

वर्तमान में, जी-7 भू-राजनीतिक रूप से एक ध्रुव के रूप में उभर रहा है। नई व्यवस्था में आर्थिक शक्ति के कई केंद्र होंगे, जिसमें भारत एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। भारत न केवल एक बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में बल्कि पूर्व और पश्चिम के बीच एक पुल निर्माता के रूप में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

भारत जी7+1 का अभिन्न अंग बन चुका है और इसे 11 बार आमंत्रित किया जा चुका है। प्रधानमंत्री मोदी ने पांच आउटरीच शिखर सम्मेलनों में भाग लिया है और प्रमुख वैश्विक चुनौतियों पर अपने विचार साझा किए हैं। यह प्रधानमंत्री मोदी की इटली यात्रा पहली यात्रा है, जिसमें दोनों देशों के बीच मजबूत रणनीतिक साझेदारी पर जोर दिया गया है।

भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारा (आईएमईसी) ने भी रोम और रायसीना हिल्स के बीच सहयोग को बढ़ावा दिया है। अफ्रीका, भूमध्य सागर और हिंद-प्रशांत क्षेत्र भी सहयोग के लिए महत्वपूर्ण परिदृश्य प्रदान करते हैं। कृत्रिम बुद्धिमत्ता, डेटा विनियमन, जलवायु परिवर्तन और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों के उपयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता है।

भारत ने जी20 की 2023 की अध्यक्षता के दौरान अपनी कूटनीतिक क्षमता और वैश्विक भलाई के लिए सभी को साथ लेकर चलने की मंशा को दर्शाया है। जी7+1 के समूह में, भारत जीडीपी के मामले में चार प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं से आगे निकल चुका है। प्रधानमंत्री मोदी ने वैश्विक शांति और एकजुटता के लिए भारतीय दृष्टिकोण को प्रमुख नेताओं के साथ साझा किया है।

भारत की प्राथमिकता वैश्विक दक्षिण और इसकी चिंताएँ और हित बने हुए हैं।

Latest news
Related news