Saturday, June 22, 2024

क्या सेंसेक्स, निफ्टी नई ऊंचाइयों को छुएंगे या मूल्यांकन में गिरावट आएगी? 

यूबीएस ने चार संभावित चुनाव परिणामों के आधार पर भारतीय शेयर बाजार पर असर का विश्लेषण किया है। इन परिदृश्यों में सबसे प्रमुख है भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए की पूर्ण बहुमत से जीत, जो कि बाजार के लिए सबसे सकारात्मक परिणाम माना जा रहा है।

  1. भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली जीत: अगर भाजपा 272 से अधिक सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत हासिल करती है, तो शेयर बाजार (सेंसेक्स और निफ्टी) नए ऊंचाई पर पहुंच सकते हैं। इससे निवेशकों में नीति स्थिरता की उम्मीद बढ़ेगी और वे आगे के सुधारों की संभावनाओं को लेकर आश्वस्त रहेंगे।
  2. भाजपा का गठबंधन के साथ बहुमत: अगर भाजपा अपने दम पर बहुमत नहीं हासिल कर पाती लेकिन एनडीए के साथ मिलकर सरकार बनाती है, तो बाजार में कुछ अस्थिरता हो सकती है। नीति स्थिरता को लेकर थोड़ी अनिश्चितता रहेगी, लेकिन समग्र आर्थिक स्थिरता बनी रह सकती है।
  3. एनडीए का बहुमत न होना: अगर एनडीए बहुमत हासिल करने में विफल रहता है, तो संसद में अस्थिरता रहेगी। इससे सुधारों के क्रियान्वयन में देरी हो सकती है और वित्तीय बाजारों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  4. INDIA गठबंधन का बहुमत: अगर नवगठित INDIA गठबंधन बहुमत हासिल करता है, तो शेयर बाजार में बड़ी अनिश्चितता हो सकती है। नीति में अचानक बदलाव की संभावना होगी, जिससे बाजार पर तीव्र नकारात्मक असर पड़ सकता है। एनडीए द्वारा लागू किए गए कुछ सुधारों को पलटने का जोखिम बढ़ सकता है।

यूबीएस ने कहा कि चुनाव परिणामों से प्रेरित बाजार का प्रदर्शन मध्यम से लंबी अवधि में उलट जाता है, क्योंकि निवेशक और व्यवसाय नई सरकार की नीतियों के अनुकूल हो जाते हैं।

हालांकि चुनाव से पहले जनमत सर्वेक्षणों ने भाजपा के लिए और सीटें बढ़ने का संकेत दिया, लेकिन चुनाव के पहले पांच चरणों में वास्तविक प्रगति कम स्पष्ट रही है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और बिहार जैसे राज्यों में क्षेत्रीय राजनीतिक अनिश्चितता और कम मतदाता भागीदारी के कारण एनडीए की तीसरी बार जीत हासिल करने की क्षमता पर सवाल खड़े हो गए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने हाल ही में निवेशकों की चिंताओं को कम करने की कोशिश की और भाजपा की मजबूत जीत का अनुमान जताया।

यूबीएस ने यह भी कहा कि चुनाव से प्रेरित किसी भी बाजार की कमजोरी को खरीदारी के अवसर के रूप में देखा जा सकता है।

कुल मिलाकर, चार संभावित चुनाव परिणामों में से भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली जीत को शेयर बाजार के लिए सबसे अच्छा परिणाम माना गया है, जबकि INDIA गठबंधन की जीत को सबसे नकारात्मक परिणाम माना गया है।

Latest news
Related news