• 11/08/2022 9:08 pm

#कोरोना: #म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री पर बढ़ा दबाव, जुलाई में सात लाख से अधिक #SIP बंद हुए

अप्रैल में 5.4 लाख सिप अकाउंट बंद हुए थे जो बाद में बढ़ कर 6.52 लाख हो गए. मई में यह संख्या बढ़ कर 6.58 लाख हो गई.

कोविड-19 से पैदा आर्थिक संकट निवेशकों पर भारी पड़ रहा है. इसका सबसे ज्यादा असर म्यूचुअल फंड सिप में दिखा है. सिप निवेश में लगातार चौथे महीने में गिरावट आई है. जुलाई में इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीमों से निवेशकों ने 2,480 करोड़ रुपये निकाल लिए. एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड इन इंडिया के मुताबिक जुलाई में 7.16 लाख सिप अकाउंट बंद हो गए.

सिप से निकलने की रफ्तार बढ़ी 

कोविड-19 की वजह से लगातार सिप अकाउंट बंद होने की रफ्तार बढ़ती जा रही है. अप्रैल में 5.4 लाख सिप अकाउंट बंद हुए थे जो बाद में बढ़ कर 6.52 लाख हो गए. मई में यह संख्या बढ़ कर 6.58 लाख हो गई. जुलाई में यह संख्या 7.16 लाख हो गई. आउटस्टैंडिंग एसआईपी में भी इजाफा हुआ है. यह संख्या 3.84 लाख पर पहुंच गई है. इंडस्ट्री ने अप्रैल में 2.1 लाख नए अकाउंट जोड़े हैं. मई में 1.56 लाख नए अकाउंट जोड़े गए. जून और जुलाई में क्रमश: 2.55 लाख और 3.84 लाख नए अकाउंट जोड़े गए. नए अकाउंट में इजाफे की वजह से वे निवेशक हैं, जो इस समय गिरते हुए मार्केट का लाभ उठा कर म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं.

इक्विटी निवेश में गिरावट का असर

म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि रिटेल निवेशक इक्विटी बाजार में आई गिरावट की वजह से सिप से निकलना चाहते हैं, वहीं कुछ बड़े निवेशक इस स्थिति का फायदा उठा कर प्रॉफिट बुक कर रह हैं. म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में रिडेंप्शन और नए इन-फ्लो दोनों की बढ़ोतरी हो रही है. हालांकि नए सिप रजिस्ट्रेशन में बढ़ोतरी शेयर बाजार  में रिटेल निवेशकों में बढ़ती भागीदार की तरह ही है

For Ragular Update Visit Our Site.

                                  Click Link Below.

https://newsmarkets24.com

twitter.com/newsmarkets24

https://www.facebook.com/newsmarkets

9:30 Live

Leave a Reply

Your email address will not be published.