Friday, July 19, 2024

अगर इस बार अरविंद केजरीवाल को जमानत मिली तो उनके लिए आगे की राह मुश्किल हो सकती है

अगर दिल्ली उच्च न्यायालय इस बार अरविंद केजरीवाल को आबकारी नीति मामले में जमानत दे देता है, तो केजरीवाल को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। दिल्ली इस समय भीषण गर्मी के बीच जल संकट से जूझ रही है और अगले साल विधानसभा चुनाव भी होने हैं। अगर केजरीवाल को जमानत मिल जाती है, तो उनकी स्थिति पिछली बार से थोड़ी अलग होगी, जब उन्हें अंतरिम जमानत पर रिहा किया गया था और उन्होंने लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार में भाग लिया था।

हाल ही में दिल्ली की एक ट्रायल कोर्ट ने केजरीवाल को जमानत दी थी, जिन्हें दिल्ली आबकारी नीति ‘घोटाला’ मामले में कथित संलिप्तता के लिए हिरासत में लिया गया था। राउज एवेन्यू कोर्ट ने 20 जून को अपने जमानत आदेश में कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) केजरीवाल के खिलाफ अपराध की आय के संबंध में कोई प्रत्यक्ष सबूत देने में विफल रहा।

एक दिन बाद, ईडी ने दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी। ईडी ने अपनी याचिका में तर्क दिया कि केजरीवाल को नियमित जमानत देने का 20 जून का आदेश बिना ईडी को सुनवाई का पर्याप्त अवसर दिए पारित किया गया था। एजेंसी ने ट्रायल कोर्ट के आदेश का विरोध करने के लिए कई अन्य कारण बताए।

अब, जबकि दिल्ली उच्च न्यायालय में सुनवाई चल रही है, आइए नजर डालते हैं आने वाले समय में अरविंद केजरीवाल के सामने आने वाली चुनौतियों पर:

अगर उन्हें जमानत नहीं मिली तो क्या होगा? अगर जमानत नहीं मिली तो केजरीवाल आबकारी नीति घोटाले के मामले में जेल में रहेंगे। उनकी अनुपस्थिति से शहर के शासन पर असर पड़ा है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, विभाग प्रमुखों ने रोजमर्रा के काम संभाले हैं, लेकिन महत्वपूर्ण नीति निर्देश और दिशा-निर्देश केजरीवाल की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं, खासकर विधानसभा चुनाव के करीब आने पर। केजरीवाल आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक भी हैं।

    Latest news
    Related news